Google search engine
HomeLIFESTYLET.B. Ka Gharelu Elaaj : टीबी का घरेलू इलाज .

T.B. Ka Gharelu Elaaj : टीबी का घरेलू इलाज .

T.B. Ka Gharelu Elaaj :टीवी एक बैक्टीरिया से फैलने वाला रोग है माइकोबैक्टीरिया ट्यूबरक्लोसिस नामक बैक्टीरिया से यह रोग होता है। टीवी का इलाज अगर बीच में ही छोड़ दिया जाता है तो यह रोग और भी घातक हो जाता है इसलिए इसका इलाज जब से शुरू करें तो इसको बीच में बंद ना करें जब तक किसका इलाज पूरा नहीं हो जाता है और मरीज स्वस्थ नहीं हो जाता है तब तक इसका इलाज जारी रखें।

इस बीमारी में रोगी को सांस लेने में तकलीफ होती है सीने में दर्द होता है रोगी को खांसी आती है यदि किसी व्यक्ति को 15 दिनों तक लगातार खांसी आ रही हो तो इसका चेकअप अवश्य कर ले अन्यथा बड़ी बीमारी बन सकती है टीबी का इलाज शुरुआती दौड़ में आसान होता है अगर टीबी शुरुआत है तो रोगी 6-7 महीने में ठीक हो सकता है अगर बीमारी पुरानी हो जाएगी तो 20 से 24 महीने तक इस बीमारी से ठीक होने में लग सकते हैं इसलिए अगर किसी को ऐसी समस्या हो रही हो तो चेकअप अवश्य करा लें अगर संक्रमित हो तो तुरंत इलाज शुरू करते हैं

और हम अपने लेख के माध्यम से कुछ देसी उपाय बताएंगे जो इलाज के साथ है सहायक के रूप में प्रयोग कर सकते हैं जिससे रोगी को जल्द से जल्द रोग से मुक्ति मिल सकती है इन उपायों को ऐसे ना लें कि डॉक्टर की कोई जरूरत ही नहीं है अब हम इन्हें उपाय से ठीक हो जाएंगे ऐसा बिल्कुल ना करें डॉक्टर की सलाह फैसले और इलाज के साथ-साथ इन उपायों का प्रयोग करें।

T.B. Ka Gharelu Elaaj
T.B. Ka Gharelu Elaaj
  • केला

केला पोषण और कैल्शियम का बहुत बेहतरीन स्रोत है जो शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है यह कब और बुखार को भी काम करता है।

  • लहसुन.

लहसुन में सल्फ्यूरिक एसिड होता है जो बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है जिनके कारण टीबी रोग पनपता है इसमें एलिसन और अजोएन भी होते हैं
जो बैक्टीरिया बढ़ने से रोकता हैं इसके एंटीबैक्टीरियल गुड और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुण टीवी के मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं टीवी के मरीज लहसुन को खाने के साथ या कच्चा चबा सकते हैं।

  • संतरा

संतरे में काफी मात्रा में खनिज और कंपाउंड्स पाए जाते हैं संतरे का रस फेफड़ों में सलाइन पहुंचना है जिससे कब काम होता है और शरीर को अन्य होने वाली बीमारियों से बचाता है प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।

  • ग्रीन टी

ग्रीन टी में हाय एंटीऑक्सीडेंट होता है जो प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है इसमें पॉलिफिनॉल्स कंपाउंड्स भी होते हैं जो बैक्टीरिया को काम करते हैं यह टीवी मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

  • सीताफल (शरीफा)

सीताफल में फिर से जवान बनने के गुण होते हैं यह फल तपेदिक के मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद होता है टीबी के मरीजों के लिए सीताफल बहुत ही लाभदायक है सीताफल को कहीं कहीं पर शरीफा भी कहा जाता है।

  • अखरोट

अखरोट एक ऐसा फल है जो शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है और टीवी के मरीज को इसका सेवन करना चाहिए इससे बहुत से पोषण शरीर को प्राप्त होते हैं जो लोगों से लड़ने की क्षमता शरीर में विकसित करते हैं।

  • आंवला

आंवला में सूजन रोधी और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं कई पोषण होने की वजह से शरीर को ऊर्जा देता है और क्षमता को भी बढ़ता है जैसे शरीर के अंगों के कार्य सही तरीके से काम करते हैं।

  • काली मिर्च

काली मिर्च फेफड़ों को साफ करती है जिसकी मदद से छाती के दर्द से राहत मिलती है जो की टीवी की वजह से होता है इसके साथ ही इसके सूजन रोधी गुण सूजन को दूर करते हैं जब बैक्टीरिया और लगातार कफ के कारण बढ़ता है।

(नोट: बताए गए उपायों को इलाज के साथ सहायक के रूप में प्रयोग करें डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।)

Read more..

  1. खाना खाने के बाद यदि आप भी खाते है फल तो हो जाए सावधान…

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Latest News