Google search engine
HomeIndiaEducation Scam : केरल में क्यों है? 100% साक्षरता दर काला सच...

Education Scam : केरल में क्यों है? 100% साक्षरता दर काला सच आया सामने!

Education Scam :भारत में सबसे ज्यादा शिक्षा के मामले में शिक्षित राज्य है केरल और केरल को शिक्षित दिखाने के लिए वहां की सरकारें घिनौना खेल कर रही हैं। जो हिंदुस्तान के लिए जहर है इस पर केंद्र सरकार को संज्ञान लेना चाहिए और सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए अगर अभी से सरकार ने संज्ञान नहीं लिया तो आगे चलकर पूरे हिंदुस्तान के लिए एक नई मुसीबत खड़ी हो जाएगी।

आज केरल में एक अलग प्रकार का जिहाद चल रहा है पूरे विश्व में ऐसा जिहाद का पहला मामला है केरल में शिक्षा जहाज चल रहा है मानना है कि साक्षर दिखाकर अपने यहां के लोगों को देश के जिम्मेदार पोस्टों पर जिम्मेदार संस्थानों में बैठाना जब उनके लोग जिम्मेदार पोस्टों पर और जिम्मेदार संस्थानों पर बैठेंगे तब जो वह लोग चाहेंगे वही करवाएंगे सभी लोगों से।

टेलीविजन पर बताया गया है कि केरल बोर्ड से 100% नंबर लेकर आए 4000 से अधिक छात्रों ने दिल्ली विश्वविद्यालय में फॉर्म भरा था जिसमें एक ही कॉलेज में इतिहास में 38 भूगोल में 34 गणित में 45 बायोलॉजी में 51 अंग्रेजी में 50 बच्चों को एडमिशन मिल जितने भी केरल राज्य के छात्र थे सब का दाखिला हो गया यह एक कॉलेज का परिणाम था बाकी 4000 छात्रों को अन्य कॉलेजों में दाखिला मिलना लगभग तय है ध्यान देने वाली बात यह है कि गणित में 100% नंबर मिल सकते हैं यह सभी की समझ में आता है लेकिन इतिहास भूगोल बायोलॉजी और भाषा में 100 नंबर मिलते हैं तो यह एक विचार करने योग्य बात है ऐसा मुमकिन नहीं है कि मैथ के अलावा 100% नंबर बाकी सब्जेक्ट में लाया जा सके।

इस घोटाले को दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर राकेश पांडे ने पकड़ा प्रोफेसर राकेश पांडे 2016 से ही इस बात को संज्ञान में लेकर प्रशासन को बता रहे थे लेकिन उनकी बात पर विश्वविद्यालय प्रशासन और राज्य के मुख्यमंत्री कोई भी संज्ञान नहीं ले रहे थे उनकी बात को नकार दिया सभी ने ।

Education Scam
Education Scam

इसके बाद प्रोफेसर राकेश पांडे ने इस मुद्दे को टेलीविजन पर जब उठाया तो हड़कंप मच गया अब जांच हो रहे हैं यह पूरा खेल केरल की वामपंथी सरकार कर रही है जो दिल्ली विश्वविद्यालय को अपने अपराध का अड्डा बनाना चाह रही थी।

दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों का कहना है कि जो लोग केरल का ढिंढोरा पीटते हैं कि देश में सबसे ज्यादा शिक्षा दर में अव्वल रहने वाला राज्य केरल है तो उनकी असलियत सुनो ना उनकी हिंदी अच्छी है ना ही अंग्रेजी भाषा वह लोग जो भी उच्चारण करते हैं गलत ही करता होता है जो समझ से बाहर रहता है और केरल की शिक्षा दर को वैश्विक स्तर पर नंबर एक दर्शाया जाता है लेकिन सच कुछ और है।

प्रोफेसर को मिलने लगी धमकी.

जब इस मुद्दे को प्रोफेसर राकेश पांडे ने टेलीविजन पर उठाया तो प्रोफेसर को धमकियां मिलना शुरू हो गए शशि थरूर जैसे आदमी प्रोफेसर की आलोचना करने लगे क्योंकि शशि थरूर भी उसी थाली के चट्टे बट्टे हैं असल में सारे वामपंथी और कांग्रेस टुकड़े-टुकड़े गैंग जेएनयू की तरह दिल्ली विश्वविद्यालय को अपराध का अड्डा बना देना चाहते हैं अब देखना यह है कि ऐसी हरकतें और किन-किन राज्यों में की जा रही है जिनका मुख्य स्रोत है विश्वविद्यालय के द्वारा ऐसा जिहाद किया जा रहा है।

यूपीएससी की परीक्षा में हुआ घोटाला.

 100% साक्षरता दर काला सच
100% साक्षरता दर काला सच

सबसे खास बात यह है कि केरल में ऑनलाइन परीक्षा भी नहीं हुई और छात्र को व्यक्तिगत रूप से परीक्षा में बैठना पड़ा था जबकि ऑनलाइन परीक्षा देने वाले छात्र जो किताब देखकर और कंप्यूटर रखकर परीक्षा दिए हैं उनमें भी दो-चार को ही 100 नंबर मिले हैं

इससे पूर्व यूपीएससी में उर्दू को माध्यम बनाकर षड्यंत्र रचा गया था जिसमें कॉपियां जाॅचने वाले मुस्लिम ही होते हैं दूसरे धर्म के लोगों को उर्दू आती नहीं है तो जांच भी उर्दू जानने वाले ही करते रहे उसमें भी 100% नंबर देकर मुसलमानों को IAS,IPS जैसे जिम्मेदार जगह पर 2009 से ही घुसेड़ा जा रहा है सब फैसल जैसे टॉपर इसी तरह बने थे केरल में कानून की डिग्री में सरिया कानून का सब्जेक्ट है अब ऐसे वकील यदि हाई कोर्ट सुप्रीम कोर्ट में पहुंचेंगे तो हमारे भारत के बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के द्वारा लिखित संविधान को ताक पर रखकर अपने सरिया कानून के गुण गाएंगे ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Latest News